Tuesday, June 25, 2024
HomeHomeअमेरिकी स्वतंत्रीय -संग्राम के क्या कारण थे। Causes of the American War...

अमेरिकी स्वतंत्रीय -संग्राम के क्या कारण थे। Causes of the American War of Independence Part- 4

अमेरिकी स्वतंत्रीय -संग्राम के क्या कारण थे। Causes of the American War of Independence Part- 4

इतिहास में आज: 28 जून | ताना बाना | DW | 27.06.2013


सप्तवर्षीय युद्द का परिणाम  :- सप्तवर्षीय युद्द  जित से बहुत  लाभकारी
परिणाम हुए।  फ्रांस अमेरिका से निकल दिया गया तथा कनाडा पर भी इंग्लैंड का अधिकार  हो गया।  अमेरिकी 
उपनिवेशों को भी फ्रांसीसी हस्तक्षेप से उतपन्न होने वाले झंझटों 
 
छुटकारा मिला।  इस युद्द  ब्रिटेन   उठानी
पड़ी।  अन्तः 
1763 
ईस्वी  बाद ब्रिटिश सरकार 
 
निर्णय लिया  कि  अमेरिकी
उपनिवेशों का कर्तव्य   ब्रिटिश
साम्राज्य की सुरक्षा  लिए उचित आर्थिक सहयोग दें।  जार्ज तृतीय  

शासनकाल में   इन उपनिवेशों पर कठोर आर्थिक एवं राजनितिक नियंत्रण  गया
,
नएजये  लगाए गये  तथा  अमेरिकी
व्यपार एवं उधोगधन्धो  को नियंत्रित  लिए नयेनये कानून बनाये गये। 

 

11. 1763  ईस्वी  बाद उपनिवेशों  में नयेनये  कानूनों
की भरमार और उससे उतपन्न अन्तोश
  :- 

1763 ईस्वी 
ब्रिटिश सरकार  उपनिवेशों में  तरहतरह के दमनकारी  लागू  किया
कारण इंग्लैण्ड  अमेरिकी उपनिवेशों  सम्बन्ध उत्तरोत्तर बिगड़ता गया।  1763 
ईस्वी के आदेश  अनुसार
अमेरिकी उपनिवेश के वासी  पश्चमी  खास 
चिन्ह के बाहर   इंडियन
से तो जमीन खरीद  बिना राजा  की अनुमित  स्वंय जगलों  काट कर खेती कर सकते थे।  इस प्रकार पश्चिम क्षेत्र में अमेरिकी उपनिवेशों के प्रसार पर नियंरण लगा। 

 

(i)  सुगर 
एक्ट : – 

 1764.   कानून के अनुसार अमेरिकी उपनिवेशों में इंग्लैण्ड के उपनिवेशों के बहार  से आनेवाली चीनी पर चिनगी बड़ा दी गयी।  इन कानून का उदेश्य  था कि  अमेरिकी
उपनिवेशों में ब्रिटिश चीनी की ही खपत हो।  इस कानून  अंतर्गत अमेरिकी उपनिवेशों  में ब्रिटिश चीनी की ही खपत हो।  कानून के अंतर्गत अमेरिकी उपनिवेशों में आयात उपनिवेशो में आयत की जानेवाली वस्तुओं  की चुंगी बढ़ा  दी गयी। 

 

(ii)  करेंसी  एक्ट
:-

 इसके  अमेरिकी
उपनिवशो  को नॉट छपकर वहाँ  चालने 
से रोक दिया गया।  इससे वहाँ  के व्यपारियों 
एवं किसानो की कठिनाइयों बढ़ गयी।  

 

(iii) स्टैम्प 
ऐक्ट :-

 इसके अनुसार 1765 ईस्वी से उपनिवेस निवासियों  प्रकार 
टिकट खरीद क्र दस्तावेजों, समाचार पत्रों एवं डिग्रियों आदि पर चिपकना पड़ता था। इससे प्राप्त आमदनी को उपनिवेशों की रक्षा  में खर्च करने की घोषणा की गयी।  इससे
सभी लोगो प्रभावित हुए और इसका जमकर विरोध किया गया।  जेम्स ओरिस  ने नैरा दिया की ” No
taxation  without  representation ”
परिणामस्वरूप इसके विरुध्द  गये 
आन्दोलन  के सामने ब्रिटिश सर्कार को झुकना पड़ा और इसे रद्द करने की घोषणा पड़ी।  

 

 

(iv) कवाटरिंग  ऐक्ट :-

 इसके अनुसार अमेरिकी उपनिवेशों  ब्रिटिश
सैनिकों   ठहरने
तहा खिलने  उपनिवेशों  पर 
गयाउपनिवेशों में असंतोष फेल गया। 

 

(v)   रेवेन्यू ऐक्ट :-

 1767 
इस्वॉ के इस कानून के नुसार उपनिवेशों में आयत किये जाने वाले शीशा , जस्ता, कागज और चय पर कर लगाया गया।  इस कानून को लागो करने के लिए तथा चुंगी वसूल लिए अफसरो को बहोत अधिकार किये गये। 

 

 Tea Act - Definition, Timeline & Facts - HISTORY

(vi)   टी ऐक्ट :-

 इस कानून के अनुसार अमेरिकी उपनिवेशों में चाय आयत करने का एकाधिकार ब्रिटिश एस्ट इण्डिया  कंपनी
को दिया गया।  इस कानून ने उपनिवेसियों  के मन में यह बात बेथ दी की ब्रिटिश सरकार उनका शोषण करना चाहती है।  चाय परपेंस  प्रति
पोंड टक्स लगाया गया  नाममात्र का क्र था , परन्तु इसके द्वारा इंग्लैंड यह दिखन चाहता था कि   लगाने
का अधिकार है। 

Tea Act | Great Britain [1773] | Britannica

तात्कालिन  कारण (immediate Causes )

उपयुर्क्त मौलिक कारणों  के अतिरिक्त निम्नांकित तात्कालिक करने ने भी 
क्रांति 
मार्ग प्रशस्त किया

 

1.  बोस्टन हत्याकांड :- 

1770  ईस्वी में बोस्टन जगार में ब्रिटिश सेनिको पर पतराव किया गया। 
सेनिको ने भीड़ पर गोली 
चलायी 
.
इस गोलीकांड में
मरे और की घायल हुए। 
इस बोस्टन हत्याकांड अमेरकी औपनिवेशों 
में असंतोष 
गयी।

 

2.  बोस्टन टी पार्टी :- 

1773  ईस्वी में बोस्टन बंदरगाह में चाय से भरा एक ब्रिटिश जहाज पहुंचा। 
अनेक अमेरिकनों नई रेड इण्डियन 
का भेष बनाकर जहाज पर हमला क्र दिया तथा चाय की 343 
पेटियाँ 
समुन्द्र में फेंक 
दी। 
ब्रिटिश 
सरकार ने नाराज होकर उपनिवेशवाशियो को दण्डित 
कठोर कदम 
तीव्र असन्तोष 
व्याप्त हो गया। 

 

4.  प्रोटेस्टेंट 
नराजगी :-

अमेरिका के अंडा प्रदेश 
सीमाएँ 
बढ़ा दी गई। 
समूचे प्रदेश शासन वायसराय के जम्मे सौंपा 
गया 
रोमन कैथोलिकों को धार्मिक स्वतंत्रा प्रदान की गयी। 
इससे प्रोटेस्टेंट 
नाराज हो गये।

 

 

5.  फ्लाडेल्फिया कॉन्फ्रेंस :-  

फ्लाडेल्फिया  
में दमनकारी कानूनों का विरोध करने के लिए 4 सितम्बर 1744 
ईस्वी को एक सम्मेलन हुआ जिसमे 12 
उपनिवेशों के प्रतिनिधियों  ने भाग। 
लिया निर्णय हुआ की ब्रिटिश सम्राट के पास मांगपत्र भेजा जाय और ब्रिटिश माल का वहिष्कार किया जाय 
.
ब्रिटिश सरकार  के पास दुबारा माँगे 
राखी गयी और वर्जिनिया 
निवासी जॉर्ज वशिंगटन 
को संयुक्त सेना का सेनापति नियुक्त किया गया। 
अमेरिका के सभी उपनिवेशवासी विद्रोह नहीं थे। 
लेकिन जिन पर इंग्लैण्ड 
के क्रूर कानून लाडे गये 
वे इंग्लैण्ड 
के शत्रु बन गये।

 

4 जुलाई 1776 
ईस्वी में फ्लाडेल्फिया 
में उपनिवेशों के प्रतिनिधियों 
की तीसरी बैठक हुई। 
थॉमस जेफरसन के प्रयासो 
से स्वतंत्रता की घोषणा क्र दी गई। 
घोषणापर में मौलिक अधिकारों का वर्णन था। 
इसके बाद युद्द की घोषणा हुई। 
युद्ध आत्मसमर्पण करने के लिए बाध्य हिना पड़ा। 
1783 
ईस्वी में वर्साय की संधि के साथ युद्ध समाप्त हो गया और अमेरिका की स्वतंत्रा स्वीकार कर ली गयी।

This is part-4

 

 https://www.learnindia24hours.com/

link of 1 or 2 part

1-https://www.learnindia24hours.com/2020/09/blog-post_7.html

2-  https://www.learnindia24hours.com/2020/09/blog-post.html

3-

RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

Recent Comments