Monday, June 17, 2024
HomeHomeरैयतवाड़ी व्यवस्था क्या है ?/What is Rayotwari System?/for exam:-NTPC,RRB,UPSC .. -learnindia24hours

रैयतवाड़ी व्यवस्था क्या है ?/What is Rayotwari System?/for exam:-NTPC,RRB,UPSC .. -learnindia24hours

इन बिंदुओं  पर चर्चा होगी :-

·       रैयतवाड़ी  व्यवस्था
क्यों लाया गया ?

·       रैयतवाड़ी व्यवस्था क्या है ?

·       रैयतवाड़ी व्यवस्था कब लागू हुई ?

·       रैयतवाड़ी व्यवस्था किसके द्वारा
लया  गया ?

·       रैयतवाड़ी व्यवस्था कहा –
कहा  लागु  थी ?

·       रैयतवाड़ी
व्यवस्था  कितने प्रतिशत भूमि पर       लागू थी ?

·       भू – राजस्व का निर्धारण कैसे
किया जाता           था?

·       रैयतवाड़ी व्यवस्था  के
दोष ?

 

 

 रैयतवाड़ी  व्यवस्था क्यों लाया गया ?

 

अंग्रेजों ने अपने बढ़ते हुए खर्चों पूर्ति और आर्थिक मात्रा धन कमाने
के उदेश्य  से भारत के पारंपरिक  भू – व्यवस्था में हस्तक्षेप
करना प्रारंभ किया।आरंभ में क्लाइव और उसके उत्तराधिकारियों ने व्यापक
बदलाव करते हुए बिचौलियों  की माध्यम से भू – राजस्व की वसूली की।

 

 इसके बाद विभिन्न प्रशासकों ने विभिन्न क्षेत्रों में की प्रकार की
भू – राजस्व व्यवस्थाएँ चलाई। जैसे – इजारेदारी प्रथा , स्थायी बंदोबस्त
, रैयतवाड़ी और महलवाड़ी व्यवस्था।

 

परन्तु बाद में रैयतवाड़ी व्यवस्था लाने  का कारण :-

 

* बिचौलियों (जमींदारों )  वर्ग  समाप्त करना

* सरकार स्थायी बंदोबस्त के दोषो को  चाहती थी

* क्योकि स्थायी बंदोबस्ती में निश्चित राशि से अधिक वसूली की गयी
सारी  रकम जमींदारों द्वारा हड़प लिया जाता था।

* इसके आलावा दक्षिण और  दक्षिण पश्चिमी भारत में इतने बड़े
जमींदार नहीं है की इनसे स्थायी बंदोबस्त किया जा सके।

 

 

रैयतवाड़ी व्यवस्था क्या है ?

 

इसमें रैयतों/किसानों  को भूमि का मालिकाना हक़ प्रदान किया
गया।  अब किसान स्वयं कंपनी को भू – राजस्व देने के लिए उत्तरदायी
थे।  इस व्यवस्था में भू- राजस्व राजस्व  का निर्धारण उपज के आधार
पर नहीं बल्कि भूमि की क्षेत्रफल के आधार पर किया गया। भूमि कर न देने की स्तिथि
में भूमिदार को , भूस्वामित्व के अधिकार से वंचित  होना पड़ता था।

 

रैयतवाड़ी व्यवस्था कब लागू हुई ?

 

1802  ईस्वी में

 

किसके द्वारा लया  गया ?

उस समय मद्रास के तत्कालीन गवर्नर टॉमस मुनरो ने यह व्यवस्था
लाई  थी।

 

रैयतवाड़ी व्यवस्था कहा – कहा  लागु  थी ?

 

यह व्यवस्था  मद्रास, बंबई ( वर्तमान में मुम्बई ) एवं
असम  के कुछ भागों  में लागू की गई थी।

 

 रैयतवाड़ी
व्यवस्था  कितने प्रतिशत भूमि पर लागू थी ?

 

 51% भूमि पर लागू थी।

 

 भू – राजस्व का निर्धारण कैसे किया जाता था?

 

 भू – राजस्व निर्धारण वास्तविक उपज की मात्रा पर न करके भूमि के
क्षेत्रफल के आधार पर 

किया जाता था।

 

 रैयतवाड़ी
व्यवस्था  के दोष ?

 * ग्रामीण  समाज की सामूहिक स्वामित्व की
अवधरणा  समाप्त।

* जमींदारों का स्थान स्वयं ब्रिटिश सरकार  ने ले लिया।

* सरकार  ने अधिकधिक राजस्व वसूलने के लिये  मनमानी
ढंग से भू – राजस्व 
का निर्धारण किया।

 * लगान  की दर अधिक हो गया। 

 * किसान का भूमि पर तब तक ही स्वामित्व रहता था, जब तक की यह
लगान 
की         राशि सरकार को निश्चित समय  भीतर
अदा  करता रहे।

 


इस तरह के इतिहास से सम्बंधित  टॉपिक्स के लिए ब्लॉग पे जाये। 

Click below link-

https://www.learnindia24hours.com/

RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

Recent Comments