Wednesday, February 28, 2024
HomeHomeBiography of Hima Das/हिमा दास की जीवनी। - learnindian24hours

Biography of Hima Das/हिमा दास की जीवनी। – learnindian24hours

 


पूरा नाम:- हीमा रणजीत दास

जन्म:- 9 जनवरी 2000

उपनाम:- ढिंग एक्सप्रेस

पिता:- रणजीत दास

माता:- जोनाली दास

हिमा का जन्म
असम राज्य के नगाँव जिले के ढिंग गाँव
में हुआ था। उनके पिता का नाम रणजीत दास तथा माता का नाम
जोनाली दास
है।
हिमा
एक
दलित परिवार से हैं उनके पिताजी
किसान एवं उनकी माता गृहणी है। घर की आर्थिक स्थिति अच्छी नहीं थी खाने पीने की
व्यवस्था भी ढंग से नहीं हो पाती थी। हिमा ने अपनी शुरूआती पढाई ढिंग गाँव से ही
की खेलों में रूचि होने के कारण हिमा अपनी पढाई जारी नहीं रख पाई. यह बचपन से ही
फुटबॉल खेलती थी और अपना कैरियर भी फुटबॉल में ही देखती थी। वे अपने गांव या ज़िले
के आस पास छोटे-मोटे फ़ुटबॉल मैच खेलकर
100-200 रुपये जीत लेती थी फ़ुटबॉल में खूब दौड़ना पड़ता
था, इसी वजह से हिमा का स्टैमिना अच्छा बनता रहा, जिस वजह से वह ट्रैक पर भी बेहतर
करने में कामयाब रहीं. इनके गांव में
बाढ़ आने के कारण इनकी प्रैक्टिस में बहुत सारी
दिक्कतें आती थी जिस  मैदान में वह दौड़ की
तैयारी करती, बाढ़ में वह पानी से लबालब हो जाता। जिला स्तरीय प्रतियोगिता के
दौरान ‘
स्पोर्ट्स एंड यूथ वेलफेयर’ के निपोन दास की नजर उन पर पड़ी।
उन्होंने हिमा दास के परिवार वालों को हिमा को गुवाहाटी भेजने के लिए मनाया जो कि
उनके गांव से 140 किलोमीटर दूर था। हिमा के माता-पिता गुवाहाटी में उनके रहने का
खर्च नहीं उठा सकते थे. लेकिन बेटी को आगे बढ़ते हुए भी देखना चाहते थे. इस
मुश्किल स्थिति में निपुण ने ही एक रास्ता निकाला और सारा खर्चा खुद उठाया इस पर उनके
पिताजी राजी हो गए और हिमा को गुवाहाटी भेज दिए।

  

·     हिमा दास ने World U-20 Championships 2018, फ़िनलैंड में स्वर्ण पदक
जीतकर रातोंरात सुर्ख़ियों में आ गयी थी. हिमा दास ने 400 मीटर की दौड़ स्पर्धा
में 51.46 सेकेंड का समय निकालकर स्वर्ण पदक जीता। हिमा दास ने ऐसा ही प्रदर्शन
जकार्ता रोशन में हुए 18वें एशियन
गेम्स
में भी जारी रखा.
2019
me उन्होंने 19 दिन में 5 गोल्ड मैडल जीतकर
पूरे देश का नाम दुनिया में कर दिया था।
25 सितंबर 2018 को इन्हें अर्जुन पुरस्कार से सम्मानित
किया गया

 

  पहला स्वर्ण पदक :
2 जुलाई- पोलैंड में पोजनान एथलेटिक्स ग्रांड प्रिक्स में 200 मीटर रेस 23.65
सेकंड में पूरी कर जीता.

 

दूसरा
स्वर्ण पदक
: 7 जुलाई-
पोलैंड में कुनटो एथलेटिक्स मीट में 200 मीटर रेस को 23.97 सेकंड में पूरा किया.

 

तीसरा
स्वर्ण पदक
: 13 जुलाई-
चेक रिपब्लिक में क्लाद्नो एथलेटिक्स मीट में 200 मीटर रेस 23.43 सेकेंड में पूरी
की.

 

चौथा
स्वर्ण पदक
: 17 जुलाई-
चेक रिपब्लिक में ताबोर एथलेटिक्स मीट में 200 मीटर रेस 23.25 सेकंड के साथ जीती.

 

पांचवा स्वर्ण पदक : 20 जुलाई – ‘नोवे मेस्टो नाड मेटुजी ग्रांप्री’ में हिमा ने 400
मीटर की रेस 52.09 सेकंड में पूरी करके जीती।

 

   
हिमा दास का व्यक्तिगत सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन-

   
100 मीटर- (11.74 सेकेंड में),

    
200 मीटर- (23.10 सेकेंड में),

    
400 मीटर- (50.79 सेकेंड में)


———————————————————————————–

BIOGRAPHY

———————————————————————————–

#Irrfan khan biography #इरफान खान की जीवनी। (learnindia24hours.com)

—————————————————————————————————————————

#Biography of Kapil Dev #Kapil Dev/ कपिल देव #Story of Kapil Dev #कपिल देव की जीवनी। (learnindia24hours.com)

—————————————————————————————————————————–

#A. R. Rahman/ए॰ आर॰ रहमान #story of A. R. Rahman #biography of A. R. Rahman. (learnindia24hours.com)

—————————————————————————————————————————–

#Biography of Satyendra Nath Bose/ सत्येंद्र नाथ बोस की जीवनी। (learnindia24hours.com)

———————————————————————————–

For Detail chapter you can click below link  :-


RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

Recent Comments